0
Your Cart
No products in the cart.

Indo-dutch Horticulture

High Density Plants Nursery

We are one of the leading producers of quality planting materials of various Flower Bulbs & Fruit Trees for the Global & Indian markets. Apart from bringing a variety of Dutch horticulture expertise and technology to India, we are pushing the boundaries by using India’s economical land and labor rates to produce superior planting material at competitive price. We are delighted to inform that we have successfully developed highly quality feather Apple fruit trees in India meeting International standards & specifications and are exact copies of the Import trees. As desired, we hereby agree to offer the Desired Varieties From a Reputed Genuine Source in the Netherlands, with Root Stocks should be having a diameter at least 4 mm, with a well-developed fibrous, and other specifications as desired by you.

What we Provide

Our Global Partners

2000+ Orchards

800+ Subsidies

9+ Varieties

1000+ Trainings

High Density Apple Plantation​

Project “Apple Unnati” is a Joint Initiative of Coca-Cola India & Indo-Dutch Horticulture Technologies (Technical Partners) for the Development & Enhancement of Apple production in Uttarakhand and helping hill farmers to move from traditional system to new modern system of Ultra-High Density (UHDP) Apple Cultivation System under Unnati Apple Program, for Farmers of Uttarakhand.

Mega Infrastructure

There is adequate infrastructure available to graft, process, and handle 500,000 plants for an entire season. This helps to grow numerous plants in a very limited space.

International Collaborations

By collaborating with companies based in the Netherlands and Italy, we have increased our chances of growing more efficient plants. Our international partnerships have also allowed us to import top-notch root stocks for our plant cultivation.

Empowering Farmers

We empower apple farmers with knowledge and infrastructure to improve their yields. Our workshops cover planting, fertilizing, pest control, pruning, and harvesting. We provide irrigation systems, storage facilities, and market access. With our support, farmers can grow healthier trees and increase their profitability. We're making a positive impact on the lives of apple farmers.

Helping Indian Economy

One of our ways to support the Indian economy is by providing farmers with infrastructure, knowledge, and subsidies. This initiative has received support from organizations such as Coca-Cola India and various government agencies.
India

Project Unnati Apple Subsidy Benefits

Coca cola story-Indo-Dutch has partnered with Goca Cola India Pvt. Ltd. for the Unnati Apple initiative to improve farm productivity and quality thereby leading to higher farmer Income Under the program we provide financial and technical assistance to farmers to establish modern @DHP apple orchards of highest global standard. All the components for establishment of apple orchards are subsidized for the farmers to help in early adoption This is a way of showing gratitude to the farmers of the nation by recognize their contribution in helping India move towards nutritional security. Till now with Coca Cola we have established 200 orchards in farmers field and have undertaken add liona target of establishing 1000 more orchards in Uttarakhand and Himachal Pradesh.

Apple Plant & Schemes

What’s Dignitaries Say About Our Indo Dutch

Quick Query for Apple Plant

    Frequently asked Questions

    उन्नति योजना क्या है?

    कोका कोला इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (CCIPL) ने इंडोडच हॉर्टिकल्चर टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड (IDHT)के साथ प्रोजेक्ट एप्पल-उन्नति के कार्यान्वयन भागीदार के रूप में साझेदारी की। शामिल है:
    250 इम्पोर्टेड र्क्वारंटाइन यूएचडीपी सेब के पौधे + ड्रिप सिंचाई प्रणाली और मल्च शीट। केवल ₹1,20,000 में 5+ पंखों वाले पौधे

    “उत्कर्षा एप्पल” सशक्त उत्तराखंड महिला – उत्तराखंड की सशक्त महिलाओं को समर्पित एक दूरदर्शी पहल।शामिल है:
    प्रशिक्षण और सहायता, 50 इम्पोर्टेड र्क्वारंटाइन यूएचडीपी सेब के पौधे + ड्रिप सिंचाई प्रणाली और मल्च शीट । 25,000 रुपये में 5+ शाखा वाले पौधों

    18-25 वर्ष के आयु वर्ग के युवा और कृषि स्टार्ट-अप उत्साही हमारी क्रांतिकारी “एप्पल यूथ” योजना के लिए पात्र हैं, विशेष रूप से उत्तराखंड राज्य के गतिशील युवाओं के लिए। शामिल है:
    प्रशिक्षण और सहायता, 150 इम्पोर्टेड र्क्वारंटाइन यूएचडीपी सेब के पौधे + ड्रिप सिंचाई प्रणाली और मल्च शीट। केवल ₹75,000 में 5+ पंखों वाले पौधे

    कोका कोला इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (CCIPL) ने इंडोडच हॉर्टिकल्चर टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड (IDHT)के साथ प्रोजेक्ट एप्पल-उन्नति के कार्यान्वयन भागीदार के रूप में साझेदारी की। शामिल है:

    • 250 इम्पोर्टेड र्क्वारंटाइन यूएचडीपी सेब के पौधे(5+ शाखा)
    • 250 पौधों के लिए ड्रिप सिंचाई प्रणाली (15 मीटर 40 मिमी मुख्य लाइन पाइप + 250 पौधों के लिए 16 मिमी इनलाइन + 1 पानी फिल्टर + 1 वायु वाल्व + 1 खुलने वाली दीवार)
    • खरपतवार नियंत्रण और नमी के लिए छिद्रित UV मल्च शीट (230 मीटर)
    • 4-तार और सभी फिक्स्चर के साथ GI पाइप पर पूर्ण ट्रेलिस प्रणाली
    • सभी फिक्स्चर और क्लचर के साथ एंटी हेलनेट टॉप कवर।
    • प्लांट क्लिप्स (टू इन वन प्लांट) यूवी स्थिरीकृत
    • 250 पौधों के लिए मैश वायर
    • फुल ट्रेलिस प्रणाली की स्थापना (वृक्षारोपण, मल्च शीट की स्थापना छोड़कर)

    इंडो-डच एप्पल पौधे, सामान्य सेब के पेड़ों के तुलना में 1 वर्ष में फल देते हैं,
    आर्थिक लाभ: एप्पल हाई-वैल्यू फल हैं, जो किसानों को लाभकारी आय प्रदान करते हैं।
    लम्बी अवधि का निवेश: एप्पल पौध कई वर्षों तक उपजाऊ रह सकते हैं, जो स्थिर आय प्रदान करते हैं।

    • एलिवेशन 1200 से 2500 मीटर उचाई वाले छेत्र
    • न्यूनतम 6 से 8 घंटे सूर्य वाला स्थान
    • प्रतिदिन 4 लीटर पानी प्रति पौधे के लिए
    • समतल जमीन
    • चिकनी या बलुई मिट्टी उत्तम
    • रोड और अच्छी कनेक्टिविटी
    • उन एप्पल किस्मों को चुनें जो आपके जलवायु क्षेत्र के लिए उपयुक्त हैं। इंडो-डच से सम्पर्क करें। हम इसमें आपका मार्गदर्शन प्रदान कर सकते हैं।
    इंडो-डच सेब के पौधों की देखभाल के लिए समय-समय पर किसानों को प्रशिक्षण देता है  और समय-समय पर किसानों के बाग़ का निरिक्षण करता है। (अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें 844-844-5524) कृपया किसान निम्न लिखित बातों पर विशेष ध्यान दें।
    • पानी देना: नियमित तौर पर पानी दें, खासकर सूखे के दौरान, महत्वपूर्ण है
    • कटाई : पेड़ को आकार देने, मृत लकड़ी को हटाएँ, और हवा के बहाव का ध्यान रखें।
    • उर्वरक: स्वस्थ विकास के लिए सिंथेटिक उर्वरक का प्रयोग करें।
    • कीट और रोग नियंत्रण: कीटों और बीमारियों की निगरानी के लिए मौद्रिक प्रबंधन उपायों का उपयोग करें और उचित कदम उठाएं।